वो कॉलेज का पहला दिन-college 1st day

दोस्तों में आज आपके सामने एक स्टूडनेट का कॉलेज का पहला दिन कैसे होता हे और स्टूडनेट उस दिन के बारे में कैसे सोचते  बारे में ले कर आया हु जो बहुत ही लाजवाब हे तो पड़ते है wo college ka pahla din
1ST COLLEGE DAY
1ST DAY COLLEGE

कॉलेज जाने वाले दिन से पहले की वो रात 

तो बैग तैयार हैयूनिफ़ॉर्म तैयार हैआईडी भी चेक कर लिया, 7:00 AM का अलार्म भी चेक कर लिया। इसलिए मैं नए स्थानों पर अपनी नई यात्रा शुरू करने के लिए तैयार था। मैं कॉलेज जाने को लेकर बहुत उत्साहित था। लेकिन उस उत्तेजना के साथ मैं काफी नर्वस भी था। क्या होगा अगर मैं कॉलेज के माहौल को नहीं अपना पायाकॉलेज में मेरा कोई दोस्त नहीं है अगर मैं दोस्त बनाने में असमर्थ रहाअगर मैं आज तक मेने इसकी कल्पना की वैसा नहीं हुआ तो क्या होगामेरा मन इस तरह के प्रश्नो से भर गया। लेकिन इन सबसे ऊपर मैं कॉलेज जाने को लेकर बहुत उत्साहित था। मैंने कई बार इस दिन की कल्पना की है लेकिन कल मैं अंत में इस दिन का हिस्सा बनने जा रहा हूं। तो इन सभी विचारों को ध्यान में रखते हुएमैं भूल गया कि हमें रात को सोने की जरूरत होती हे। मैं सोने की कोशिश कर रहा था लेकिन कल के लिए मेरी उत्तेजना ने इसे मुश्किल बना दिया।


जब वह दिन आया 1ST DAY OF COLLEGE

 आखिरकार वह दिन आ गया जब मैं पहली बार कॉलेज जाने वाला था। इसलिए मैं अलार्म बजने से पहले उठ गया । मेरे कॉलेज की टाइम सुबह 9:00 बजे की थी और मैं सुबह 6:00 बजे उठा। मैंने स्नान किया और कॉलेज के लिए तैयार हो गया उसके बाद मैंने नाश्ता किया। मैंने अपना पहला कदम कॉलेज की ओर बढ़ाया। वह कदम सिर्फ कॉलेज की ओर नहीं थाबल्कि कुछ बनने की मेरी नई यात्रा की ओर हैभविष्य के लिए खुद को आकार देने की मेरी नई यात्रा की ओरअपने माता-पिता के सपने को पूरा करने की मेरी नई यात्रा की ओर था फिर मैंने कॉलेज की इमारत में प्रवेश किया और कक्षा की ओर आने वाले प्रत्येक संकाय का अभिवादन किया। कक्षा में प्रवेश करते ही मैंने कई नए चेहरे देखे। मैं असमंजस में था कि कहाँ बैठूँ। सभी छात्र एक दूसरे से बात कर रहे थे और एक दूसरे को जानने की कोशिश कर रहे थे। लेकिन मैं उस प्रकार का लड़का नहीं था जो नए चेहरों को आसानी से बात कर सकता था| मैंने खुद को काफी असहज पाया। मैंने कक्षा के सभी छात्रों को देखा और एक छात्र को पिछली दूसरी बेंच पर अकेले बैठे देखा। मैं उसके पास बैठ गया। मैं उसे महसूस कर पा रहा था क्योंकि वह भी उसी परिसिथति से गुज़र रहा था जिससे में गुजर रहा था| मैंने चुपी को तोड़ और उससे उसका नाम पूछा। उसने अपना नाम नमन बताया और वह जबलपुर से था। इस तरह बातचीत शुरू हुई। हम बात कर ही रहे थे कि शिक्षक पहुंचे। यह हमारा पहला दिन था। शिक्षक ने हमें कॉलेजसमाजोंपरिसर और पुस्तकालय के बारे में बताना शुरू किया। सभी अपने चेहरे पर एक विशेष मुस्कान के साथ शिक्षक को सुन रहे थे। लंच के लिए घंटी बजी। अब लंच का समय वह समय होता है जब छात्र अलग हो जाते हैं जो लंच लेकर आते हैंवे क्लास में रुकते हैं और जो लंच नहीं लाते वे कैंटीन में चले जाते हैं। नमन और मैं कैंटीन गए और कुछ भी ऑर्डर नहीं कियाहम सिर्फ यह देखना चाहते थे कि कैंटीन कैसी दिखती है। लंच के बाद सभी छात्र अपने-अपने स्थान पर बैठ गए। अब मैं पहले की तरह अजीब महसूस नहीं कर रहा थामैं अपने कुछ सहपाठियों के साथ बात करने में कामयाब रहा। फिर शिक्षक आये और अपने विषय के पाठ्यक्रम का अवलोकन करने लगा। हम अपने विषयों को जानने के लिए भी उत्सुक थे। कुछ समय बादछुट्टी के लिए अंतिम घंटी बजी। हम सभी इस दिन से बहुत खुश और संतुष्ट थे। तो इस तरह से कॉलेज में मेरा पहला दिन खत्म हो गया।

मेने क्या पाया और क्या सीखा 

तो इस तरह वह दिन समाप्त हुआ जिसका मैंने कई बार सपना देखा था लेकिन यह उस दिन से बिल्कुल अलग था जिसकी मैंने कल्पना की थी। मैंने बहुत कुछ सीखा। मैं बहुत खुश था क्योंकि मुझे अपने पहले ही दिन एक बहुत अच्छा दोस्त मिल गया था। इसके अलावा मुझे कुछ संकायों के बारे में पता चला और उस दिन ने मुझे सिखाया की हमें हर जगह सामाजिक होना कितना अनिवार्य हे तुम सब चीजें अपने हिसाब से हर जगह नहीं कर सकते। मैंने भी चारों ओर एक दोस्ताना स्वभाव विकसित करने और अच्छे दोस्त बनाने का फैसला किया।

मेरे यह भी किस्से पढ़े 

परिचय :

आयुष मोगरे मूल निवासी बरवानी हे जो BBA LAW 1ST YEAR में अध्ययनरत हे वैसे तो यह इंग्लिश आर्टिकल लिखने में रूचि रखते हे लेकिन न इनके दवार इनके कॉलेज के पहले दिन को हिंदी में लिखा गया | जो आपके सामने हे 

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा कमेंट बॉक्स में कमेंट जरुर करियेगा ताकि में आपके सामने ऐसे और आर्टिकल लाता रहु 


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *