BEST LIFE LARANING POEM 

जीवन के लिए कविता, सुंदर कविता हिंदी में

 वो परिंदा है

***********

समझा रहा हूँ प्यार मत कर

वो परिंदा है एतबार मत कर

सामने कर दे प्रेम का इजहार

खिड़कियों से दीदार मत कर

प्रेम होता है दिलों का रिश्ता

हरेक से आंखें चार मत कर

गर है प्रेम तो समझ जाएंगे

चौराहे पर इश्तहार मत कर

मुश्किल से मिलती  है छुट्टी

बरबाद तू , इतवार मत कर

चुका न सके जिसे पीढ़ियाँ

परिंदा इतना उधार मत कर

राम शर्मा परिंदा

मनावर जिला धार मप्र

13/12/2020

kavita on life in hindi कविता हिंदी में लिखी हुई

नाम

*****

कण-कण में राम छुपा है

ज्यों मेघों में घाम छुपा है

कर्महीन नर शोभत नाही

कर्म में ही आराम छुपा है

मुख पर लोग बोलते नहीं

 दिल  में कोहराम छुपा है

निशदिन देती है ये प्रकृति

लेकिन  तामझाम छुपा है

हालांकि मैं लिखता नहीं

शब्द-शब्द में नाम छुपा है

सिर्फ सुबह दिखता परिंदा

दोपहर और शाम छुपा है ।

राम शर्मा परिंदा

मनावर जिला धार मप्र

05/01/2021

समय best poem

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *