[ad_1]

Lal Bahadur Shastri Hindi Speech: क्या आप जानते हैं कि 2 अक्टूबर सिर्फ गांधी जयंती के कारण ही नहीं बल्कि लाल बहादुर शास्त्री जयंती के कारण भी महत्वपूर्ण है। हिंदी में आसान और सरल लाल बहादुर शास्त्री के छोटे और लंबे भाषण के लिए यहां देखें।

Lal Bahadur Shastri Speech in Hindi: भारत के दूसरे प्रधान मंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय, उत्तर प्रदेश, भारत में हुआ था। वह एक प्रमुख राजनीतिक नेता और स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्होंने जय जवान जय किसान का नारा दिया था। उन्हें हरित क्रांति में उनकी भूमिका के लिए भी जाना जाता है। प्रत्येक वर्ष, 2 अक्टूबर को लाल बहादुर शास्त्री जयंती या उनकी जयंती के रूप में मनाया जाता है। यह एक बड़ा संयोग है कि लाल बहादुर शास्त्री को महात्मा गांधी से बहुत प्रेरणा मिली जिनकी जयंती 2 अक्टूबर को गांधी जयंती के रूप में भी मनाई जाती है। इस लेख में, हमने स्कूली छात्रों और सभी उम्र के बच्चों के लिए हिंदी में छोटा और लंबा लाल बहादुर शास्त्री भाषण प्रदान किया है। 

Lal Bahadur Shastri Jayanti

Lal Bahadur Shastri Essay in English

Lal Bahadur Shastri Essay in Hindi

Lal Bahadur Shastri Speech in English

लाल बहादुर शास्त्री पर 10 लाइन

सुप्रभात, आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों,

  1. 2 अक्टूबर 1904 को जन्मे श्री लाल बहादुर शास्त्री भारत के दूसरे प्रधान मंत्री थे।
  2. बचपन में उनके करीबी और प्रियजन उन्हें प्यार से ‘नन्हे’ कहकर बुलाते थे।
  3. वह भारत में ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के खिलाफ एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे।
  4. शास्त्री कृषि आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देने के लिए हरित क्रांति में भी एक प्रमुख व्यक्ति थे।
  5. वह अपनी विनम्र पृष्ठभूमि, सादगी, ईमानदारी और सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण के लिए जाने जाते थे।
  6. प्रसिद्ध नारा “जय जवान जय किसान” 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान मनोबल बढ़ाने के लिए उनके द्वारा गढ़ा गया था।
  7. 1966 में ताशकंद समझौता, जिसने भारत और पाकिस्तान के बीच युद्ध को समाप्त किया, प्रधान मंत्री के रूप में उनके कार्यकाल का सबसे बड़ा आकर्षण है।
  8. लाल बहादुर शास्त्री की 11 जनवरी 1966 को ताशकंद, उज्बेकिस्तान में रहस्यमय परिस्थितियों में मृत्यु हो गई।
  9. आज तक उनकी मौत जांच का विषय बनी हुई है.
  10. शास्त्री जी को ईमानदारी के प्रतीक के रूप में सदैव याद किया जाएगा, जिनसे सीख ली जा सकती है।

जय हिन्द!

लाल बहादुर शास्त्री पर छोटा भाषण – Short Speech on Lal Bahadur Shastri in Hindi

आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकों और मेरे प्यारे दोस्तों, सुप्रभात!

लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को भारत के उत्तर प्रदेश में एक आर्थिक रूप से अक्षम परिवार में हुआ था। भारत के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान महात्मा गांधी के नेतृत्व में अहिंसक सविनय अवज्ञा आंदोलन में सक्रिय रूप से भाग लेने के बाद वह भारतीय राजनीति में एक प्रमुख व्यक्ति बन गए।

वह 1951 में दिल्ली चले गए जिसके बाद उन्होंने केंद्र सरकार में रेल मंत्री, परिवहन और संचार मंत्री, वाणिज्य और उद्योग मंत्री और गृह मंत्री के रूप में कई भूमिकाएँ निभाईं। जून 1964 में, शास्त्री ने जवाहरलाल नेहरू के बाद भारत के प्रधान मंत्री की भूमिका निभाई। उनके नेतृत्व में सादगी, ईमानदारी और राष्ट्र के कल्याण के प्रति अटूट प्रतिबद्धता थी। उनके कार्यकाल के दौरान, 1965 का भारत-पाकिस्तान युद्ध हुआ, जहाँ शास्त्री के शांत और दृढ़ नेतृत्व के कारण उन्हें “शांति पुरुष” की उपाधि मिली। उन्होंने जनवरी 1966 में ताशकंद समझौते पर बातचीत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जिससे संघर्ष समाप्त हुआ और पाकिस्तान के साथ शांति स्थापित हुई।

शास्त्री की स्थायी विरासतों में से एक 1965 के युद्ध के दौरान दिया गया नारा “जय जवान जय किसान” (सैनिक की जय, किसान की जय) है।

प्रधान मंत्री के रूप में अपने अपेक्षाकृत कम समय के बावजूद, लाल बहादुर शास्त्री ने भारतीय राजनीति और समाज पर एक अमिट छाप छोड़ी, जो अपनी सादगी, ईमानदारी और सार्वजनिक सेवा के प्रति समर्पण के लिए जाने जाते थे। भारत के इतिहास में एक चुनौतीपूर्ण अवधि के दौरान उनके नेतृत्व का सम्मान और प्रशंसा की जाती रही है।

लाल बहादुर शास्त्री पर लम्बा भाषण – Long Speech on Lal Bahadur Shastri in Hindi

सुप्रभात, आदरणीय प्रधानाचार्य, शिक्षकगण और मेरे प्रिय मित्रों,

परिचय

श्री लाल बहादुर शास्त्री का जन्म 2 अक्टूबर, 1904 को मुगलसराय, उत्तर प्रदेश, भारत में एक साधारण परिवार में हुआ था। जब वह लगभग दो वर्ष के थे, तब उनके पिता, एक स्कूल शिक्षक, की मृत्यु हो गई। उनका बचपन गरीबी में बीता। इन चुनौतियों के बावजूद, शास्त्री जी ने शिक्षा के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता प्रदर्शित की। उनके दृढ़ संकल्प ने उन्हें अपनी पढ़ाई जारी रखने और भारतीय राजनीति में सबसे प्रमुख शख्सियतों में से एक बनने के लिए प्रेरित किया।

स्वतंत्रता संग्राम

शास्त्री जी ने ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन से स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष में सक्रिय रूप से भाग लिया। वे सदैव गांधी जी से प्रेरित रहे। वह केवल 16 वर्ष के थे जब उन्होंने खुद को महात्मा गांधी के अहिंसक सविनय अवज्ञा आंदोलन के साथ जोड़ लिया। भारत की स्वतंत्रता की खोज में, उन्हें ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन द्वारा कई गिरफ्तारियाँ झेलनी पड़ीं।

राजनीतिक कैरियर और प्रधान मंत्री पद

1947 में भारत की स्वतंत्रता के बाद, लाल बहादुर शास्त्री ने रेलवे के लिए केंद्रीय कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया; परिवहन और संचार मंत्री; वाणिज्य और उद्योग मंत्री और गृह मंत्री भी।

9 जून 1964 को, लाल बहादुर शास्त्री ने जवाहरलाल नेहरू के बाद भारत के प्रधान मंत्री की भूमिका संभाली। प्रधान मंत्री के रूप में शास्त्री के कार्यकाल में 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध और 1966 के ताशकंद समझौते जैसी महत्वपूर्ण घटनाएं देखी गईं, जिन्होंने भारत और पाकिस्तान के बीच शांति स्थापित की।

इस संघर्ष के दौरान उनके शांत और दृढ़ नेतृत्व ने उन्हें “शांति पुरुष” उपनाम दिया। उनका कार्यकाल उनकी सादगी, ईमानदारी और भारत के कल्याण और प्रगति के प्रति अटूट समर्पण का प्रमाण था।

नारा “जय जवान जय किसान”

शास्त्री जी द्वारा “जय जवान जय किसान” (सैनिक की जय, किसान की जय) का नारा पहली बार 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान दिया गया था। इसने भारतीय आबादी को प्रभावित किया, जिससे सशस्त्र बलों और कृषि समुदाय दोनों का मनोबल बढ़ा।

लाल बहादुर शास्त्री की मृत्यु

लाल बहादुर शास्त्री का जीवन एक दुखद दुर्घटना के कारण समाप्त हो गया, जिससे उनकी अप्रत्याशित मृत्यु हो गई। ताशकंद समझौते पर हस्ताक्षर करने के तुरंत बाद 11 जनवरी, 1966 को ताशकंद, उज्बेकिस्तान में उनकी मृत्यु हो गई। शास्त्री जी की मृत्यु का सटीक कारण आज तक अटकलों का विषय बना हुआ है।

Related to Gandhi Jayanti:

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *